blog-64-intezaar-1

तेरे इंतेज़ार में यूँ लम्हे बीते है
जैसे सादिया सिमट गये कुछ पलों में

दिल की धड़खाने बँध पढ़ गयी
उदार की साँसों ख़तम होने पे है

खामोश मंज़र के बीच में मैं
घूम्शुदा अकेले खो गये हूँ जैसे
गहरे सॅनाटॉ में आसूओ की चीखें ऐसे
दीवानगी चरम सीमा पे है

मौत तो एक बार ही जान लेती है
यहाँ तो दर्द में तड़पना भी काम है

एक इलतेजा है खुदा से..
मेरे एक दुआ कबूल कर लो…
पथर का बना दो इस जिस्म को…
रूह उसके दिल में बसा दो…
उसके साथ ज़िंदगी हो…
और उसका प्यार हर खुशी हो…

 

Pic Credits: http://indianexpress.com/article/lifestyle/life-style/karma-sutra-what-is-love/

Advertisements

Written by mahekg

It is a platform to share my views on anything I like - be it my thoughts, travel or shopping/lifestyle stuff or just reviewing stuff...

9 comments

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s